UCO Bank

एमएसएमई पर मास्टर निदेश

मास्टर निदेश - भारतीय रिज़र्व बैंक [सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) क्षेत्र के लिए ऋण ] – निदेश, 2017

बैंकिंग विनियमन अधिनियम, 1949 की धारा 21 और 35 ए द्वारा प्रदत्त शक्तियों के प्रयोग में, भारतीय रिज़र्व बैंक इस बात से सहमत होता है कि ऐसा करना सार्वजनिक हित में आवश्यक और समीचीन है, इसके बाद निर्देश जारी किए जाते हैं।

अध्याय-I

प्रारंभिक

1.1 संक्षिप्त शीर्षक और प्रारंभ

इन दिशा-निर्देशों को भारतीय रिज़र्व बैंक [सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (MSME) क्षेत्र को ऋण] निदेश, 2017 कहा जाएगा।

यह दिशा-निर्देश उस दिन लागू होंगे जब इसे भारतीय रिजर्व बैंक की आधिकारिक वेबसाइट पर रखा जाएगा।

1.2 प्रयोज्यता

इन दिशा-निर्देशों के प्रावधान भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा भारत में संचालित करने के लिए लाइसेंस प्राप्त प्रत्येक अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक {क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों (आरआरबी) को छोड़कर} पर लागू होंगे।

1.3 परिभाषाएँ / स्पष्टीकरण –

इन दिशाओं में, जब तक कि अन्यथा संदर्भ की आवश्यकता न हो, तब तक यहां दिए गए नियम नीचे दिए गए अर्थों को वहन करेंगे:

  1. एमएसएमईडी अधिनियम, 2006 का अर्थ है 'सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विकास (एमएसएमईडी) अधिनियम, 2006', जैसा कि भारत सरकार द्वारा 16 जून, 2006 को अधिसूचित किया गया और संशोधन, यदि कोई हो तो समय-समय पर भारत सरकार द्वारा किया जाता है।
  2. माइक्रो, स्मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज का मतलब एमएसएमईडी अधिनियम, 2006 में परिभाषित उद्यमों से है और संशोधन, यदि कोई हो तो समय-समय पर भारत सरकार द्वारा किया जाता है।
  3. ‘मैन्युफैक्चरिंग’ और ’सर्विस’ एंटरप्राइजेज का मतलब समय-समय पर एमएसएमईडी अधिनियम, 2006 के तहत भारत सरकार द्वारा एमएसएमई मंत्रालय द्वारा अधिसूचित या एमएसएमईडी अधिनियम, 2006 में परिभाषित उद्यमों से है
  4. ‘प्राथमिकता प्राप्त क्षेत्र’ का अर्थ है मास्टर निदेश के रूप में परिभाषित क्षेत्र - भारतीय रिज़र्व बैंक (प्राथमिकता प्राप्त क्षेत्र ऋण – लक्ष्य एवं वर्गीकरण) निदेश, 2016 दिनांक 07 जुलाई, 2016 या समय-समय पर संशोधित।
  5. 'समायोजित नेट बैंक क्रेडिट (एएनबीसी)' का अर्थ होगा मास्टर निदेश में परिभाषित के रूप में समायोजित नेट बैंक क्रेडिट (एएनबीसी) - भारतीय रिज़र्व बैंक (प्राथमिकता प्राप्त क्षेत्र ऋण - लक्ष्य एवं वर्गीकरण) के निदेश, 2016 दिनांक 07 जुलाई 2016 या समय-समय पर संशोधित।

 

अध्याय-II

2 सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विकास अधिनियम, (एमएसएमईडी एक्ट) 2006

भारत सरकार ने सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विकास अधिनियम, (एमएसएमईडीएक्ट) 2006 को अधिनियमित किया है और 16 जून, 2006 को उसी अधिसूचना को राजपत्र अधिसूचना में अधिसूचित किया है । एमएसएमईडीअधिनियम(एमएसएमईडीएक्ट)2006के अधिनियमन के साथ, जो प्रतिमान परिवर्तन हुआ है, वहमध्यम उद्यमों का दायरा बढ़ाने के अलावा सूक्ष्म,लघु और मध्यम उद्यमों की परिभाष में सेवाओं के क्षेत्र को शामिल करने के अलावा है । एमएसएमईडी अधिनियम, 2006 ने सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों की परिभाषा को संशोधित किया है जो विनिर्माण या उत्पादन और सेवाओं को प्रदान करने में लगे हैं । रिज़र्व बैंक ने सभी अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों के परिवर्तनों को अधिसूचित किया है। इसके अलावा, अधिनियम के अनुसार, परिभाषा को भारतीय रिजर्व बैंक के परिपत्र संख्या RPCD. PLNFS.BC.No.63/06.02.31/2006-07 दिनांक 4 अप्रैल 2007 के माध्यम से बैंक क्रेडिट के प्रयोजनों के लिए अपनाया गया है।

2.1 सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम की परिभाषा

(क) विनिर्माण उद्यम अर्थात् एमएसएमईडी अधिनियम, 2006 में परिभाषा के अधीन, विनिर्माण उद्यमों का अर्थ होगा नीचे दिए गए अनुसार माल के निर्माण या उत्पादन में लगे उद्यम:

  1. एक माइक्रो एंटरप्राइज वह उद्यम है जहां संयंत्र और मशीनरी में निवेश 25 लाख रुपये से अधिक नहीं है;
  2. एक छोटा उद्यम वह उद्यम है जहां संयंत्र और मशीनरी में निवेश 25 लाख रुपये से अधिक है। लेकिन 5 करोड़ रुपये से अधिक नहीं है; तथा
  3. एक मध्यम उद्यम वह उद्यम है जहां संयंत्र और मशीनरी में निवेश 5 करोड़ रुपये से अधिक है, लेकिन 10 करोड़ रुपये से अधिक नहीं है।

उपरोक्त उद्यमों के मामले में, संयंत्र और मशीनरी में निवेश भूमि और भवन की लागत को छोड़कर मूल लागत है और लघु उद्योग मंत्रालय द्वारा अधिसूचना संख्या S..O .1722 (E) दिनांक 5 अक्टूबर, 2006 (अनुबंध I)में निर्दिष्ट मदों/वस्तुओं से है ।

(ख) सेवा उद्यम अर्थात ऐसे उद्यम जो सेवाएं उपलब्ध कराने या प्रदान करने में लगे हुए हैं और जिनके उपकरण में निवेश (भूमि और भवन तथा फर्नीचर फिटिंग और अन्य सामान जो सीधे सेवा प्रदान करने से संबंधित नहीं हैं,को छोडकर मूल लागत या जिन्हें एमएसएमईडीअधिनियम (एमएसएमईडी एक्ट ), 2006 के तहत अधिसूचित किया जा सकता है) नीचे दिए गए अनुसार:

  1. एक सूक्ष्म उद्यम वह उद्यम है जहां उपकरण में निवेश 10 लाख रुपये से अधिक नहीं है;
  2. एक लघु उद्यम वह उद्यम है, जहां उपकरण में निवेश 10 लाख रुपये से अधिक है, लेकिन रुपये 2 करोड़ से अधिक नहीं है; तथा
  3. एक मध्यम उद्यम वह उद्यम है जहां उपकरण में निवेश 2 करोड़ रुपये से अधिक लेकिन 5 करोड़ से अधिक नहीं है ।

एमएसएमई (MSME)मंत्रालय, भारत सरकारके कार्यालय ज्ञापन (OM) F. No. 12 (4) / 2017-SME दिनांक 8 मार्च, 2017के संदर्भ में जिसमें यह स्पष्ट किया गया है कि सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम केवर्गीकरण के लिए संयंत्र और मशीनरी में निवेश का पता लगाने के लिए, निम्नलिखित दस्तावेजों पर भरोसा किया जा सकता है:

  1. संयंत्र और मशीनरी की खरीद के बीजक/चालान की एक प्रति; या
  2. संयंत्र और मशीनरी में निवेश के लिए सकल ब्लॉक जैसा कि लेखा परीक्षित खातों में दिखाया गया है; या
  3. संयंत्र और मशीनरी की खरीद मूल्य के बारे में एक चार्टर्ड एकाउंटेंट द्वारा जारी किया गया एक प्रमाण पत्र।

 

इसके अलावा, मंत्रालय ने स्पष्ट किया है कि सूक्ष्म, लघु या मध्यम के रूप में एक उद्यम के वर्गीकरण के उद्देश्य से संयंत्र और मशीनरी में निवेश के लिए, संयंत्र और मशीनरी की खरीद मूल्य की गणना की जानी है न कि पुस्तक मूल्य से (खरीद मूल्यमेंसे मूल्यह्रासघटाकरसे)।

उपरोक्त प्रावधान के लिए प्रभावी तिथि एमएसएमईडी अधिनियम (एमएसएमईडी एक्ट ), 2006 के लागू होने की तिथि से मानी जाएगी न कि संभावित भावी तिथि से । उपरोक्त प्रावधान एमएसएमईडी अधिनियम (एमएसएमईडी एक्ट ), 2006 के अनुभाग 7 (1) (ए) और अनुभाग 7 (1) (बी) पर लागू होंगे, अर्थात् माल के विनिर्माण में लगे उद्यम और साथ ही सेवाओं का प्रतिपादनकरने वाले उद्यमों पर लागू होंगे । इस संबंध में विस्तृत निर्देश अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों को हमारे परिपत्र FIDD.MSME &NFS.BCNo. 10/06.02.31 / 2017-18 दिनांक 13 जुलाई 2017 द्वारा जारी किए गएथे।

2.2 एमएसएमई क्षेत्र के लिए प्राथमिकता क्षेत्र दिशानिर्देश

प्राथमिकता क्षेत्र ऋण पर लक्ष्य और वर्गिकरण के संदर्भ में मास्टर दिशानिर्देश FIDD.CO.Plan.1 / 04.09.01 / 2016-17 दिनांक 07 जुलाई, 2016 को विनिर्माण और सेवा दोनों क्षेत्र सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के लिए बैंक ऋण सेवा क्षेत्र निम्नलिखित मानदंडों के अनुसार प्राथमिकता क्षेत्र के तहत वर्गीकृत होने के योग्य हैं:

2.2.1 विनिर्माण उद्यम

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम उद्योग (विकास और विनियमन) अधिनियम, 1951 को पहली अनुसूची में निर्दिष्ट किसी भी उद्योग के लिए जो वस्तुओं के निर्माण या उत्पादन में लगे हुए हैं और सरकार द्वारा समय-समय पर अधिसूचित किए जाते हैं। विनिर्माण उद्यम संयंत्र और मशीनरी में निवेश के संदर्भ में परिभाषित किए गए हैं।

2.2.2 सेवा उद्यम

बैंक ऋण सूक्ष्म और लघु उद्यमोंजोकि सेवाएँ प्रदान करने में लगे हैं तथा जो एमएसएमईडी एक्ट, 2006 के तहत उपकरणों में निवेश करने वाले नियमों में परिभाषित हैंको प्रति उधारकर्ता/यूनिट रु.5 करोड़और मध्यम उद्यमों को रु.10 करोड़ हैं।

2.3 खादी और ग्रामोद्योग क्षेत्र (केवीआई)

खादी और ग्रामोद्योग क्षेत्रकी इकाइयों के सभी ऋण प्राथमिकता वाले क्षेत्र के तहत सूक्ष्म उद्यमों के लिए निर्धारित 7.5 प्रतिशत के उप-लक्ष्य के तहत वर्गीकरण के लिए पात्र होंगे।

2.4 खाद्य और कृषि प्रसंस्करण इकाइयों को बैंक ऋण कृषि का हिस्सा बनाएंगे।

2.5 एमएसएमई को अन्य वित्त

  1. कारीगरों, ग्रामीण और कुटीर उद्योगों के आदानों और उत्पादनों के विपणन की आपूर्ति में विकेन्द्रीकृत क्षेत्र की सहायता करने वाली संस्थाओं को ऋण।
  2. विकेन्द्रीकृत क्षेत्र में उत्पादकों के सहकारी समितियों को ऋणजैसे- कारीगर, ग्रामीण और कुटीर उद्योग।
  3. प्राथमिकता क्षेत्र ऋण - लक्ष्य और वर्गीकरण पर मौजूदा मास्टर दिशानिर्देशों मेंदिए गए निर्दिष्ट शर्तों के अनुसार एमएसएमई क्षेत्र को ऋण देने के लिए बैंकों द्वारा एमएफआई को स्वीकृत ऋण।
  4. सामान्य क्रेडिट कार्ड (आर्टिजन क्रेडिट कार्ड, लघु उद्यमी कार्ड, स्वरोजगार क्रेडिट कार्ड और वीवर्स कार्ड आदि सहित) जो अस्तित्व में है और गैर-कृषि उद्यमिता व्यक्तियों के लिए खानपान के तहत बकाया ऋण ।
  5. प्रधानमंत्री जन धन योजना (पीएमजेडीवाई) के तहत 8 अप्रैल, 2015 तक बैंकों द्वारा रु.5000 / - तक विस्तारित ओवरड्राफ्ट, प्रदान किया गया, बशर्ते कि ग्रामीण क्षेत्र के लिए उधारकर्ता की घरेलू वार्षिक आय रु.1,00,000 / - तथा गैर-ग्रामीण क्षेत्रों के लिए रु.1,60,000/- से अधिक न हो । ये ओवरड्राफ्ट सूक्ष्म उद्यमोंको ऋण देने के लिए लक्ष्य की उपलब्धि के रूप में पात्र होंग
  6. प्राथमिकता क्षेत्र की कमी के कारण सिडबी और मुद्रा लिमिटेड के पास बकाया जमा।

2.6 यह सुनिश्चित करने के लिए कि एमएसएमई छोटी और मध्यम इकाइयां नहीं हैं, केवल प्राथमिकता क्षेत्र की स्थिति के लिए पात्र बने रहने के लिए, एमएसएमई इकाइयां संबंधित एमएसएमई श्रेणी से बढ़ने के बाद तीन साल तक प्राथमिकता वाले क्षेत्र को उधार देने की स्थिति को जारी रखेंगी।

2.7 एमएसएमईडीअधिनियम(एमएसएमईडी एक्ट)2006के रूप मेंसूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के रूप में वर्गीकरण के उद्देश्य से एक ही व्यक्ति/कंपनी द्वारा स्थापित विभिन्न उद्यमों के निवेशों की एक साथ क्लबिंग के लिए प्रदान नहीं करता है । इसलिए, राजपत्र अधिसूचना संख्या SO2 (E) दिनांक 1जनवरी 1993 औद्योगिक उपक्रमों के वर्गीकरण के उद्देश्य से एक ही स्वामित्व के तहत दो या दो से अधिक उद्यमों के निवेशों की एक साथ क्लबिंग के रूप में भारत सरकार के अधिसूचना क्रमांक S.O.563 (E) दिनांक 27 फरवरी, 2009को रद्द कर दिया गया है।

अध्याय- III

3 भारत में कार्यरत विदेशी बैंकों एवं घरेलू वाणिज्यिक बैंकों द्वारा सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (एमएसएमई ) क्षेत्र को ऋण देने हेतु लक्ष्य / उप-लक्ष्य

3.1 सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (MSME) क्षेत्र को अग्रिमों को समायोजित नेट बैंक क्रेडिट (एएनबीसी) के 40 प्रतिशत के समग्र प्राथमिकता क्षेत्र लक्ष्य के तहत कंप्यूटिंग उपलब्धि में माना जाएगा या ऑफ-बैलेंस शीट एक्सपोज़र की क्रेडिट समतुल्य राशि, जो भी अधिक हो, प्राथमिकता क्षेत्र ऋण देने के मौजूदा दिशानिर्देशों के अनुसार।

3.2 माइक्रो एंटरप्राइजेज को ऋण देने के लिए, जो भी अधिक है, घरेलू वाणिज्यिक बैंकों को एएनबीसी के 7.5 प्रतिशत या क्रेडिट-बैलेंस शीट एक्सपोजर की समतुल्य राशि का उप-लक्ष्य प्राप्त करना आवश्यक है। 20 शाखाओं वाले विदेशी बैंकों के लिए माइक्रो एंटरप्राइजेज के लिए उप-लक्ष्य और भारत में उक्त परिचालन 2017 में एक समीक्षा के बाद 2018 में लागू किया जाएगा। हालाँकि, माइक्रो एंटरप्राइजेज को ऋण देने का यह उप-लक्ष्य भारत में कार्यरत 20 से कम शाखाओं वाले विदेशी बैंकों पर लागू नहीं है।

3.3 मध्यम उद्यमों को 10 करोड़ एवं सूक्ष्म एवं लघु उद्यमों को प्रति उधारकर्ता / यूनिट से रु .5 करोड़ से अधिक का बैंक ऋण प्रतिपादन और उपलब्ध करवाने में लगे है और एमएसएमईडी अधिनियम, 2006 के तहत उपकरणों में निवेश के संदर्भ में परिभाषित किया गया है, जिसकी उपर्युक्त समग्र प्राथमिकता क्षेत्र के लक्ष्यों के तहत कंप्यूटिंग उपलब्धि में गणना नहीं की जाएगी। हालाँकि, सूक्ष्म और लघु उद्यमों को प्रति उधारकर्ता / इकाई से रु.5 करोड़ से अधिक का बैंक ऋण एमएसई क्षेत्र को उधार देने हेतु एमएसएमई पर प्रधानमंत्री कार्य बल द्वारा निर्धारित लक्ष्यों की उनकी उपलब्धि के संबंध में बैंकों के प्रदर्शन का आकलन करते समय लिया जाएगा।

3.4 MSMEs पर प्रधान मंत्री कार्य बल की अनुशंसा के संदर्भ में, बैंकों को सूचित किया जाता है कि :

  • सूक्ष्म और लघु उद्यमों को ऋण में 20 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि
  • सूक्ष्म उद्यम खातों की संख्या में 10 प्रतिशत वार्षिक वृद्धि और
  • सूक्ष्म उद्यमों को पिछले वर्ष की इसी तिमाही के अनुसार एमएसई क्षेत्र को कुल ऋण का 60 प्रतिशत।

अध्याय - IV

4 सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (एमएसएमई) क्षेत्र को उधार देने हेतु सामान्य मार्गदर्शी सिद्धांत / अनुदेश

4.1 सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (एमएसएमई) उधारकर्ताओं को ऋण आवेदनपत्र की प्राप्ति जारी करना

बैंकों को निदेश दिया जाता है कि सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (एमएसएमई) उधारकर्ताओं द्वारा मैन्युअल या ऑनलाइन भेजे गए सभी ऋण आवेदनपत्रों का अनिवार्यत: पावती दें और यह सुनिश्चित करें कि आवेदन पत्र पर साथ ही पावती पर क्रमिक संख्या दर्ज करें। बैंकों को यह भी निदेश दिया जाता है कि वे ऋण आवेदन पत्रों का केंद्रीयकृत पंजीकरण, ऋण आवेदन पत्रों का ऑनलाइन प्रस्तुतीकरण एवं एम एस ई ऋण आवेदनपत्रों के लिए ई-ट्रैकिंग प्रणाली विकसित करें।

4.2 संपार्श्विक

बैंकों को आदेश दिया जाता है कि वे एमएसई क्षेत्र की ईकाईयों को 10 लाख रु तक के दिए गए ऋण के मामले में कोई संपार्श्विक प्रतिभूति की मांग न करें। बैंकों को यह भी निदेश दिया जाता है कि केवीआईसी द्वारा संचालित प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (पीएमईजीपी) के अंतर्गत वित्तप्रदत्त सभी इकाईयों को 10

एमएसई इकाईयों की अच्छी ट्रैक रिकार्ड एवं वित्तीय स्थिति के आधार पर बैंक 25 लाख रु. तक (उचित प्राधिकारी के अनुमोदन के अधीन) के ऋण के लिए संपार्श्विक आवश्यकता सहित ऋण सीमा को बढ़ा सकते हैं।

बैंकों को निदेश दिया जाता है कि वे अपनी शाखाओं के कार्मिकों को प्रोत्साहित करें कि वे क्रेडिट गारंटी योजना कवर का उपयोग करें साथ ही शाखाओं के कर्मचारियों के मूल्यांकन के मामले में उनका कार्यनिष्पादन एक मानदंड के रूप में शामिल करें।

4.3 समेकित ऋण

एकल खिड़की (सिंगल विंडो) के माध्यम से कार्यकारी पूंजी एवं मीयादी ऋण प्राप्त करने हेतु एम एस ई उद्यमियों को सक्षम बनाने के लिए बैंक द्वारा 1 करोड़ रु. तक के समेकित ऋण स्वीकृत की जा सकती है।

4.4 संशोधित जेनरल क्रेडिट कार्ड (जीसीसी) योजना

प्राथमिकताप्राप्त क्षेत्र के समग्र मार्गदर्शी सिद्धोंतों के अंतर्गत सभी उत्पादक क्रियाकलापों के लिए अधिक से अधिक ऋण संयोजन को सुनिश्चित करने एवं गैर कृषि व्यवसाय क्रियाकलाप के लिए व्यक्तियों को बैंक द्वारा उपलब्ध कराए गए सभी ऋण को शामिल करने हेतु जेनरल क्रेडिट कार्ड (जीसीसी) योजना के कवरेज को बढ़ाने के उद्येश्य से जसीसी मार्गदर्शीसिद्धांतों को दिनांक 2 दिसंबर, 2013 को संशोधित किए गए थे ।

4.5 क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी योजना (सीएलएसएस)

भारत सरकार, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय ने सूक्ष्म एवं लघु उद्यमों के प्रौद्योगिकी उन्यन हेतु निम्नलिखित निबंधनों एवं शर्तों के अधीन क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी योजना का शुभारंभ किया था :

  • उक्त योजना के अंतर्गत ऋण की अधिकम सीमा 1 कोरड़ रु.
  • उपर्युक्त क्रम सं. 1 के अंतर्गत दर्ज उच्चतम ऋण सीमा तक सभी सूक्ष्म एवं लघु उद्यमों इकाईयों के लिए सब्सिडी दर 15 % है।
  • स्वीकार्य सब्सिडी की गणना हिताधिकारी इकाई को संवितरित मीयादी ऋण के स्थान पर संयंत्र एवं मशीन की खरीद मूल्य के आधार पर किया जाएगा।
  • सिडबी एवं नावार्ड उक्त योजना के लिए कार्यान्वयन एजेंसि के रूप में कार्य करता रहेगा।

 

4.6 सुक्ष्म एवं लघु उद्यमियों (एमएसई) को “ जीवन चक्र ” के दौरान सही समय पर एवं पर्याप्त ऋण उपलब्ध कराने के लिए ऋण प्रवाह को सुव्यवस्थित करना

“ जीवन चक्र ” के दौरान वित्तीय परेशानियों का सामना कर रहे सुक्ष्म एवं लघु उद्यमियों को सही समय पर वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए उपर्युक्त विषय के संबंध में परिपत्र सं. एफआईडीडी.एमएसएमई एवं एनएफएस.बीसी.नं. 60/06.02.31/2015-16 दिनांक 27 अगस्त, 2015 बैंकों को जारी किया गया था। बैंकों को निदेश दिया गया था कि वे एमएसएमई क्षेत्र के लिए अपने विद्यमान ऋण नीति की समीक्षा करें एवं व्यवहार्य एमएसई उधारकर्ताओं खासकर अनपेक्षित परिस्थिति में निधि आवश्यकता के दौरान नियमित समय पर एवं पर्याप्त ऋण उपलब्ध कराए जने हेतु निम्नलिखित उपबंधों को शमिल करें :

  • मियादी ऋण के मामले में तत्कल ऋण सुविधा उपलब्ध कराने
  • एमएसएमई इकाईयों की आकस्मिक आवश्यकताओं को पूरा करने हेतु अतिरिक्त कार्यकारी पूंजी
  • नियमित कार्यकारी पूंजी की मध्यावधि समीक्षा करें जहां बैंक इस बात से सहमत हो कि एमएसई उधरकर्ताओं के मांग के स्वरूप में हुए परिवर्तन के फलस्वरूप पिछले वर्ष के वास्तविक बिक्री के आधार पर प्रति वर्ष एमएसएमई के विद्यमान ऋण सीमा में वृद्धि किया जाना चाहिए।
  • ऋण निर्णय के लिए समय सीमा

 

4.7 एमएसएमई के लिए ऋण पुनर्संरचना

 

  1. सभी अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों को निदेश दिया जाता है कि वे “ मास्टर परिपत्र – आय पहचान, आस्ति वर्गीकरण एवं अग्रिम के एवज में प्रावधान के मामले में विवेकपूर्ण मानदंड, ” से संबंधित परिपत्र सं. डीबीआर.नं.बीपी.बीसी.2/21.04.048 / 2015-16 दिनांक 1 जुलाई, 2020 तथा समय समय पर यथा अद्यतित के अनुसार एसएमई ऋण पुनर्संरचाना के मामले में दिए गए मार्गदर्शी सिद्धांतों / अनुदेशों का अनुपालन करें ।
  2. हमारे परिपत्र सं. आरपीसीडी .एसएमई एवं एनएफएस.बीसी.नं. 102/ 06.04.01/ 2008-09 दिनांक 04 मई, 2009 के अनुसरण में सभी अनुसूचित बैंकों को निम्नलिखित कार्य करने के निदेश दिए जाते हैं:
    1. ऋण सुविधाओं के विस्तार, संभाव्य व्यवहार्य रूग्न इकाईयों / उद्यमों के लिए पुनर्संरचना / पुनर्वास नीति ( सूक्ष्म , लघु एवं मध्यम उद्यमों के व्यवहार्य एवं पुनर्वास ढांचा संबंधी दिनांक 17 मार्च,2020 को जारी मार्गदर्शी सिद्धांत के साथ पठित ) एवं निदेशक मंडल के अनुमोदन के अधीन एमएसई क्षेत्र के लिए अनर्जक ऋणों की वसूली हेतु गैर विवेकाधीन एक बारगी निपटान योजना पर ध्यान दें तथा
    2. इनके द्वारा कार्यन्वित एक बारगी निपटान योजना को बैंक के वेबसाईट में डालते हुए एवं प्रसार के अन्य संभाव्य माध्यमों से इसका अधिक से अधिक प्रचार करें । वे उधारकर्ताओं को अपना आवेदन पत्र प्रस्तुत करने एवं बकाया राशि के भुगतान हेतु उचित समय दें ताकि पात्र उधारकर्ताओं को इस योजना का लाभ मिल सके।
    3. एमएसई क्षेत्र को समय पर एवं पर्याप्त ऋण उपलब्ध कराने को ध्यान में रखते हुए इससे संबंधित अनुशंसाओं को कार्यान्वित करें।

 

4.8 एमएसएमई के पुन: प्रवर्तन एवं पुनर्वास संबंधी ढांचा

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय, भारत सरकार ने अपने राजपत्र अधिसूचना दिनांक 29 मई, 2015 के माध्यम से एमएसएमई खातों में दबाव को कम करने हेतु सरल एवं त्वरित क्रियाविधि उपलब्ध कराने को ध्यान में रखते हुए ‘ सुक्ष्म , लघु एवं मध्यम उद्यम के पुन:प्रवर्तन के लिए ढांचा’ तथा एमएसएमई के प्रवर्तन को सुविधाजनक बनाने एवं इसके विकास के संबंध में सूचित किया गया था । भारत सरकार , सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय के साथ विचार विमर्श करते हुए उपर्युक्त ढांचे में परिवर्तन किया गया ताकि “आय पहचान, आस्ति वर्गीकरण एवं अग्रिम से संबंधित प्रावधान ” के संबंध में भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा बैंकों को दिनांक 17 मार्च, 2016 को जारी विद्यमान नियामक मार्गदर्शी सिद्धांतों के साथ इसे अनुकूल बनाया जा सके। इस ढांचा के अंतर्गत रु. 25 करोड़ तक की ऋण सीमा वाले एमएसएमई इकाईयों के पुन: प्रवर्तन एवं पुनर्वास किया जाएगा। संशोधित ढांचा संभाव्य व्यवहार्य इकाईयों के पुनर्वास एवं एक बारगी निपटान के लिए राहत एवं छूट से संबंधित इकाईयों को छोड़ कर, सूक्ष्म एवं मध्यम रूग्न उद्यमों के पुनर्वास के संबंध में हमरे परिपत्र सं. आरपीसीडी.सीओ.एमएसएमई एवं एनएफएस.बीस.40 / 06.02.31 /2012 - 13 दिनांक 1 नवंबर, 2012 के द्वारा पूर्व में जारी दिशानिर्देशों का अधिक्रमण करता है ।

उक् ढांचे की मुख्य विशेषताएं निमेनलिखित हैं :

एमएसएमई के अंतर्गत के किसी ऋण खाता के अनर्जक आस्ति (एनपीए) बनने से पहले बैंक या लेनदारों को उक्त ढांचा में दिए गए अनुसार विशेष निगरानी खाते (एसएमए) के अंतर्गत तीन उप-श्रेणियां सृजित करते हुए खातों में आरंभिक दबाव का पता करें।

  1. उक्त ढांचा के अंतर्गत कोई भी एमएसएमई उधारकर्ता स्वेच्छा से कार्यवाही आरंभ कर सकता है।
  2. सुधारात्मक कार्रवाई योजना के संबंध में निर्णय लेने हेतु समिति का दृष्टिकोण अपनाना चाहिए।
  3. उक् ढांचा के अंतर्गत विभिन्न प्रकार के निर्णय करने हेतु समय सीमा निर्धारित है।

 

4.9 एमएसई क्षेत्र में ऋण संवृद्धि की निगरानी हेतु संरचित क्रियाविधि

एमएसई क्षेत्र में ऋण संवृद्धि किए जाने की घोषणा से बढ़ते हुए दबाव को ध्यान में रखते हुए इस क्षेत्र के ऋण संबंधित मामलों के सभी आयामों की मानिटरिंग के लिए बैंकों द्वारा विशेष रूप कार्य करने हेतु एक संरचित क्रियाविधि के संबंध में सुझाव देने हेतु भारतीय बैंक संघ (आईबीए) के तत्वाधान में एक उप समिति (अध्यक्ष – श्री के. आर. कामथ) का गठन किया गया था। समिति की अनुशंसों के आधार पर बैंकों को निम्निलखित निदेश दिए जाते हैं :

  • उक्त क्षेत्र के ऋण संवृद्धि की मानिटिरंग की विद्यमान प्रणाली को और मजबूत करने हेतु प्रत्येक पर्यवेक्षीय (शाखा, क्षेत्र, अंचल, प्रधान कार्यालय) स्तर पर प्रबंध सूचना प्रणाली (एमआईएस) का विस्तृत कार्यनिष्पादन तैयार करें जिसका नियमित आधार पर विवेचनात्मक मूल्यांकन किया जाना चाहिए ।
  • एमएसई ऋण आवेदन पत्रों के ई-ट्रैकिंग प्रणाली विकसित करें एवं बेंक में ऋण आवेदन पत्रों के निपटान प्रक्रिया की मानिटरिंग करें जिसमें शाखावार, क्षेत्रवार, अंचलवार एवं राज्यवार स्थिति दर्ज रहेगा। इससे संबंधित आंकड़े बैंक अपने वेबसाईट पर दर्शाएंगे एवं

 

अपने परिपत्र सं. आरपीसीडी .एमएसएमई एवं एनएफएस.बीसी. नं.74/ 06.02.31/2012-13 दिनांक 9 मई, 2013 के माध्यम से विस्तृत दिशानिर्देश सभी वाणिज्यिक बैंकों के भेजे गए थे।

अध्याय-V

5 संस्थागत व्यवस्था

5.1 विशिष्ट एमएसएमई शाखाएँ

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को प्रत्येक जिले में कम से कम एक विशिष्ट शाखा खोलने के निर्देश दिए गए है। इसके अतिरिक्त, बैंकों को एमएसएमई क्षेत्र के लिए अपनी सामान्य बैंकिंग शाखाओं को 60% या उससे अधिक अग्रिमों को वर्गीकृत करने की अनुमति दी गई है, ताकि उन्हें इस क्षेत्र में बेहतर सेवा प्रदान करने के लिए और अधिक विशिष्ट एमएसएमई शाखाएँ खोलने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके। भारत सरकार द्वारा एमएसएमई क्षेत्र को ऋण देने के लिए घोषित नीति पैकेज के अनुसार, सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक छोटे उद्यमों की पहचान वाले समूहों/केंद्रों में विशिष्ट एमएसएमई शाखाओं को सुनिश्चित करेंगे और अपेक्षित विशेषज्ञता विकसित करने के लिए बैंक कर्मियों को सम्बद्ध करेंगे ताकि उद्यमियों को बैंक ऋण आसानी से मिल सके । यद्यपि उनकी मूल क्षमता का उपयोग एमएसएमई क्षेत्र में वित्त और अन्य सेवाओं के विस्तार के लिए किया जाएगा, उनके पास वित्त को विस्तारित करने/अन्य क्षेत्रों/उधारकर्ताओं को अन्य सेवाएं प्रदान करने के लिए परिचालन लचीलापन होगा। बैंक ऐसी शाखाओं में नियुक्त अधिकारियों को उचित रूप से प्रशिक्षित करने के लिए ध्यान रख सकते हैं।

5.2 राज्य स्तरीय अंतर संस्थागत समिति (एसएलआईआईसी)

बीमार सूक्ष्म और छोटी इकाइयों के पुनर्वास के लिए समन्वय की समस्याओं को सुलझाने के लिए, राज्यों में राज्य स्तरीय अंतर-संस्थागत समितियों का गठन किया गया था। हालाँकि, एसएलआईआईसी फोरम की निरंतरता या अन्यथा, अलग-अलग राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के लिए छोड़ दी गई है।

5.3 एमएसएमई पर सशक्त समिति

केंद्रीय वित्त मंत्री द्वारा की गई घोषणा के एक भाग के रूप में, एसएलबीसी संयोजक के प्रतिनिधियों के साथ क्षेत्रीय निदेशकों की अध्यक्षता में, राज्य में एमएसएमई के वित्तपोषण में प्रमुख हिस्से वाले दो बैंकों से वरिष्ठ स्तरीय अधिकारी, सिडबी क्षेत्रीय कार्यालय के प्रतिनिधि, राज्य सरकार के उद्योगों और एमएसएमई के निदेशक, राज्य में एमएसएमई संघों के एक या दो वरिष्ठ स्तरीय प्रतिनिधि और एसएफसी/एसआईडीएस के सदस्य के रूप में एक वरिष्ठ स्तरीय अधिकारी की अध्यक्षता में एमएसएमई पर सशक्त समितियों का गठन भारतीय रिज़र्व बैंक के क्षेत्रीय कार्यालयों में किया जाता है | समिति समय-समय पर बैठक करेगी और बीमार सूक्ष्म, लघु और मध्यम इकाइयों के पुनरुद्धार और पुनर्वास के साथ-साथ एमएसएमई वित्तपोषण में हुई प्रगति की भी समीक्षा करेगी । यह अन्य बैंकों/वित्तीय संस्थानों और राज्य सरकार के साथ बाधाओं को दूर करने के लिए, यदि कोई हो तो क्षेत्र में ऋण के सुचारू प्रवाह को सुनिश्चित करने के लिए भी समन्वय करेगी। समितियां क्लस्टर/जिला स्तर पर समान समितियों की आवश्यकता का निर्णय ले सकती हैं।

5.4 बैंकिंग कोड और भारतीय मानक बोर्ड (बीसीएसबीआई)

बैंकिंग कोड और भारतीय मानक बोर्ड (बीसीएसबीआई) ने सूक्ष्म और लघु उद्यमों के लिए बैंक की प्रतिबद्धताओं हेतु एक कोड तैयार किया है। सूक्ष्म, लघु एवं माध्यम उद्यम विकास (एमएसएमईडी) अधिनियम, 2006 में निहित पारिभाषा के अनुसार, कोड बैंकों को पालम करने के लिए बैंकिंग अभ्यासों हेतु न्यूनतम मानकों को स्थापित करती है, जब बैंक सूक्ष्म एवं लघु उद्यमों के साथ व्यवहार कर रहे होते है | यह एमएसई को सुरक्षा प्रदान करता है और स्पष्ट करता है कि कैसे बैंकों द्वारा अपने दिन-प्रतिदिन के कार्यों के लिए और वित्तीय कठिनाई के समय एमएसई के साथ व्यवहार की उम्मीद की जा सकती है |

कोड में अन्य बातों के साथ यह भी उल्लेख किया गया है कि बैंकों को क्रेडिट सीमा के लिए एमएसई ऋण आवेदन का 5 लाख रु॰ की मौजूदा क्रेडिट सीमा में वृद्धि 2 सप्ताह के अंदर और 25 लाख रु॰ तक की एवं 5 लाख रु॰ से अधिक क्रेडिट सीमा का 3 सप्ताह के अंदर और रसीद की तिथि से 25 लाख रु॰ से अधिक का 6 सप्ताह के भीतर निपटान किया जाना है | आवेदन सभी प्रकार से पूर्ण और उपलब्ध “जांच सूची” के अनुसार दस्तावेजों के साथ हो| हालांकि एमएसई ऋण आवेदनों को निपटान और प्रक्रिया में लगने वाले समय को कम करने के लिए हर संभव प्रयास किया जाना चाहिए।

भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) द्वारा जारी किए गए विनियामक या पर्यवेक्षी निर्देशों को कोड प्रतिस्थापित नहीं करता है और समय-समय पर बैंक भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी किए गए ऐसे निर्देशों/दिशाओं का पालन करेंगे।

5.4.1 बीसीएसबीआई कोड के उद्देश्य कोड विकसित किया गया है:

The Code is developed to:

  1. कुशल बैंकिंग सेवाओं के लिए आसान पहुँच प्रदान करके एमएसई सेक्टर को एक सकारात्मक बल प्रदान करें।
  2. एमएसई के कार्य में न्यूनतम मानक निर्धारित करके अच्छे और निष्पक्ष बैंकिंग अभ्यासों को बढ़ावा देना।
  3. सेवाओं की उचित रूप से जो अपेक्षा हेतु उसकी बेहतर समझ को सक्षम करने के लिए पारदर्शिता बढ़ाएँ।
  4. प्रभावी संचार के माध्यम से व्यापार की समझ में सुधार करना ।
  5. उच्च संचालन मानकों को प्राप्त करने के लिए प्रतिस्पर्धा के माध्यम से बाजार की शक्तियों को प्रोत्साहित करें।
  6. एमएसई और बैंकों के बीच उचित और सौहार्दपूर्ण संबंध को बढ़ावा देना और बैंकिंग जरूरतों के लिए समय पर और त्वरित प्रतिक्रिया सुनिश्चित करना।
  7. बैंकिंग प्रणाली में विश्वास बढ़ाना।

 

कोड का पूर्ण विवरण बीसीएसबीआई की वेबसाइट (www.bcsbi.org.in) पर उपलब्ध है।

5.5 सूक्ष्म और लघु उद्यम क्षेत्र - वित्तीय साक्षरता और परामर्श समर्थन की अनिवार्यता

एमएसएमई क्षेत्र में वित्तीय बहिष्करण की उच्च सीमा को ध्यान में रखते हुए, बैंकों के लिए यह अनिवार्य है कि बाहर की गई इकाइयों को औपचारिक बैंकिंग क्षेत्र के अंतर्गत लाया जाए। वित्तीय साक्षरता की कमी, संचालन कौशल, जिसमें लेखांकन और वित्त, व्यापार आदि सम्मिलित है | इन महत्त्वपूर्ण वित्तीय क्षेत्रों में बैंकों द्वारा एमएसई उधारकर्ताओं के लिए सुविधा की आवश्यकता को रेखांकित करने के लिए दुर्जेय चुनौती का प्रतिनिधित्व किया जाता है | इसके अतिरिक्त, पैमाने और आकार की अनुपस्थिति से एमएसई उद्यमों को इस संबंध में और असमर्थ किया जाता है | इस असमर्थता को प्रभावी प्रकार से और निर्णायक रूप से संबोधित करने के लिए, अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों के परिपत्र RPCD.MSME & NFS.BC.No.20/06.02.31/2012-13 दिनांक: 1 अगस्त 2012 के अनुसार निर्देश दिया गया है कि वे या तो अलग से शाखाओं में विशेष सेल स्थापित कर सकते है या उनके द्वारा तुलनात्मक लाभ के अनुसार, उनके द्वारा स्थापित वित्तीय साक्षरता केन्द्रों (एफएलसी) में इस कार्य को एकीकृत कर सकते है | क्षेत्र की विशेष आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए बैंक स्टाफ को अनुकूलित प्रशिक्षण कार्यक्रमों के माध्यम से प्रशिक्षित किया जाना चाहिए |

इसके अतिरिक्त, अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों द्वारा संचालित वित्तीय साक्षरता केन्द्रों को हमारे परिपत्र FIDD.FLC.BC.No.22/12.01.018/2016-17 दिनांक: 2 मार्च 2017 द्वारा विशिष्ट लक्षित वित्तीय साक्षरता शिविरों को संचालित करने के निर्देश दिए गए, जहां एक लक्ष्य समूह छोटे उद्यमी है |

5.6 समूह दृष्टिकोण

सभी एसएलबीसी संयोजक बैंकों को निर्देश दिए जाते है कि वे अपने वार्षिक क्रेडिट वार्षिक योजनाओं,; सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा चिन्हित समूहों में क्रेडिट की आवश्यकताओं में सम्मिलित हो | उन्हें ऐसे समूहों/समुदायों में बैंकिंग सेवाओं का विस्तार करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है जो एसएलबीसी/डीसीसी सदस्यों द्वारा बाद में सामने आए और इसके बाद चिन्हित किए गए |

 

  1. गांगुली समिति की सिफ़ारिशों (4 सितंबर, 2004) के अनुसार, बैंकों को निर्देश दिए जाते है कि एसएसआई क्षेत्र (अब एमएसई क्षेत्र) की विविध आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए एक पूर्ण-सेवा दृष्टिकोण को अपनाकर, मान्यता प्राप्त एमएसई समूहों को चार-सी दृष्टिकोण अर्थात ग्राहक-सेवा, लागत नियंत्रण, क्रॉस सेल और नियंत्रित जिखिम को अपनाकर बैंकिंग सेवाओं का विस्तार करके प्राप्त किया जा सकता है | समूह आधारित दृष्टिकोण ऋण देने हेतु अधिक लाभदायक हो सकता है-
    1. अच्छी तरह से परिभाषित और मान्यता प्राप्त समूहों से निपटने में,
    2. जोखिम मूल्यांकन के लिए उपयुक्त जानकारी उपलब्ध कराने के लिए और
    3. ऋण देने वाली संस्थाओं द्वारा निगरानी हेतु
  2. सभी एसएलबीसी संयोजक बैंकों को पत्र संख्या RPCD.PLNFS.No.10416/06.02.31/2006-07 दिनांक 8 मई 2007 द्वारा निर्देश दिए गए है कि क्षेत्र को ऋण देने के लिए उनकी संस्थागत व्यवस्था की समीक्षा करने के लिए, विशेष रूप से संयुक्त राष्ट्र औद्योगिक विकास संगठन (यूएनआईडीओ) द्वारा देश के विभिन्न 21 राज्यों में व्याप्त करने हेतु 388 समूहों को चिन्हित किया गया है | यूएनआईडीओ द्वारा चिन्हित किए गए एसएमई समूहों की एक सूची अनुबंध-II में डी गई है |
  3. सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय ने 121 अल्पसंख्यक जिलों में स्थित पारंपरिक उद्योग (एसएफयूआरटीआई) के उत्थान और सूक्ष्म और लघु उद्यम समूह विकास कार्यक्रम (एमएसई-सीडीपी) के लिए कोष की योजना के तहत समूहों की एक सूची को मंजूरी दी है | तदनुसार, देश के अल्पसंख्यक केन्द्रित जिलों में रहने वाले अल्पसंख्यक समुदायों के सूक्ष्म और लघु उद्यमियों के चिन्हित समूहों के ऋण प्रवाह में सुधार के लिए उपायुक्त उपाय किए गए है |
  4. एसएसएसई पर प्रधानमंत्री कार्य-बल की सिफ़ारिशों के संदर्भ में, बैंकों को अलग-अलग एमएसई समूहों में अधिक एमएसई केंदित शाखा कार्यालयों को खोलना अचाही जो एमएसई के लिए परामर्श केंद्र के रूप में भी कार्य कर सकते है | जिले का प्रत्येक अग्रिम बैंक कम से कम एक एमएसई समूह को अपना सकता है |

 

5.7 विलंबित भुगतान

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विकास (एमएसएमईडी), अधिनियम 2006, में विलंबित भुगतान अधिनियम, 1988 से लेकर लघु और अनुषंगी औद्योगिक उपक्रमों पर ब्याज के प्रावधानों को निम्नानुसार प्रबल किया गया है-

  1. खरीदकार को आपूर्तिकर्ता उसके बीच हुए नियत दिन से पहले या तक और आपूर्तिकर्ता के लिखित रूप में या कोई समझौता ना होने की स्थिति में नियुक्त दिन से पहले भुगतान करना होगा | आपूर्तिकर्ता और खरीददार के बीच की सहमति की अवधि स्वीकृति के एतिथि या स्वीकृत किए गए दिन से पैंतालीस दिनों से अधिक नहीं होगी |
  2. यदि खरीददार आपूर्तिकर्ता को राशि का भुगतान करने में विफल रहता है तो वह नियत दिन से या सहमति तिथि पर या रिजर्व बैंक द्वारा बैंक की तीन बार अधिसूचित दर में राशि पर आपूर्तिकर्ता मासिक अंतराल से चक्रवृद्धि ब्याज का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी होगा |
  3. आपूर्तिकर्ता द्वारा प्रदत्त किसी भी सामान या सेवाओं के लिए, खरीदकार को उपरोक्त (ii) दिए गए निर्देश के अनुसार ब्याज के भुगतान हेतु उतरदायी होगा |
  4. देय राशि के संबंध में विवाद के मामले में, संबन्धित राज्य सरकार द्वारा गठित सूक्ष्म और लघु उद्यम सुविधा परिषद से संदर्भ लिया जाएगा |

 

इसके अतिरिक्त, बैंकों को एमएसएमई से क्रय के संबंध में भुगतान दायित्व को पूरा करने के लिए विशेष रूप से वृहत उधारकर्ताओं को समग्र कार्यशील पूंजी सीमाओं के अंदर उप-सीमाएँ तय करने के निर्देश दिए जाते है |

top

यूको में नया-नया :
इसमें हमारे पूर्व भर्ती अधिसूचना दिनांक 25.10.2020 का उल्लेख है, जिसमें हमने विभिन्न संवर्ग में 91 विशेषज्ञ अधिकारियों की भर्ती के लिए विज्ञापन प्रकाशित किया था। इस संबंध में, एमएमजीएस II में चार्टर्ड एकाउंटेंट / सीएफए की भर्ती के तहत, अनुभव अनुभाग कृपया पढ़ें: सीए या सीएफए के रूप में न्यूनतम तीन साल का कार्य अनुभव। अन्य सभी शर्तों की स्थिति समान रहेगी | आईबीए में 'सीईओ-पीएसबी एलायंस (अनुबंध पर)' की भर्ती | COVID-19 से प्रभावित ऋणकर्ताओँ से अनुरोध है कि अपने ऋण की रिस्ट्रक्चरिंग के माध्यम से राहत हेतु सम्बन्धित युको बैंक शाखा से सम्पर्क करेंं। | निविदा दिनांक 15.06.2020 की रद्द | एनपीएस सब्सक्राइबर पंजीकरण | एनपीएस सबसेंटर कंट्रीब्यूशन | वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए IBPS, मुंबई द्वारा CRP-PO-IX में चयनित उम्मीदवारों की अनंतिम चयन सूची जारी | वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए IBPS, मुंबई द्वारा CRP-Clerk-IX में चयनित उम्मीदवारों की अनंतिम चयन सूची जारी | वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए IBPS, मुंबई द्वारा CRP-PO-VIII (रिज़र्व लिस्ट) में चयनित उम्मीदवारों की अनंतिम चयन सूची जारी | 2018-20 के लिए IBPS, मुंबई द्वारा CRP-Clerk-VIII (रिज़र्व लिस्ट) में चयनित उम्मीदवारों की अनंतिम चयन सूची जारी | यूको बैंक डीमैट ग्राहकों के लिए ऑनलाइन शेयर ट्रेडिंग सुविधा का कार्यान्वयन | | बिल, प्रेषण, जमा, लॉकर पर सेवा शुल्क सहित GST @ 18% w.e.f 01.08.2017 | COVID-19 के प्रकाश में PRADHAN MANTRI GARIB KALYAN पैकेज |
© 2020 सर्वाधिकार सुरक्षित