UCO Bank

मुख्य विशेषताएँ: मृतक दावा समझौता

मृतक दावा समझौता की मुख्य विशेषताओं को निम्नलिखित तीन मदों में स्पष्ट किया गया है – यथा (क) नामांकन सहित (ख) उत्तरजीवी खंड के साथ संयुक्त खाता एवं (ग) नामांकन के बिना

नामांकन सहित

  • रु. 50,000/- तक
    खाते में यदि नामांकन किया गया है एवं दावा राशि रु. 50,000/- अथवा उससे कम है, अनुलग्नक 2 (पृष्ठ 23-24) के अनुसार दावा प्रपत्र शाखा को प्रस्तुत किया जाए।
  • रु. 50,000/- से अधिक
    मृतक के खाते में यदि नामांकन किया गया है एवं दावा राशि रु. 50,000/- से अधिक है, अनुलग्नक 3 (पृष्ठ 25) के अनुसार दावा प्रपत्र शाखा को प्रस्तुत किया जाए। संबंधित पासबुक/जमा प्रमाणपत्र(त्रों)/ सेफ कस्टडी रसीद(दों) एवं लॉकर चाबियों के प्रस्तुत किए बिना यदि दावा का निपटान किया जाता हो, उस स्थिति में अनुलग्नक 4 (पृष्ठ 27 -28 ) के अनुसार अपेक्षित स्टाम्प पेपर पर क्षतिपूर्ति बांड नामिती तथा क्षतिपूर्तिकर्ता द्वारा भर के शाखा को प्रस्तुत किया जाए।

उत्तरजीवी खंड के साथ संयुक्त खाता

  • रु. 50,000/- तक
    यदि उत्तरजीवी खंड के साथ संयुक्त खाता है एवं दावा राशि रु. 50,000/- अथवा उससे कम है, अनुलग्नक 2 (पृष्ठ 23-24) के अनुसार दावा प्रपत्र शाखा को प्रस्तुत किया जाए।
  • रु. 50,000/- से अधिक
    यदि उत्तरजीवी खंड के साथ संयुक्त खाता है एवं दावा राशि रु. 50,000/- से अधिक है तो अनुलग्नक 3-ए (पृष्ठ 26) के अनुसार दावा प्रपत्र शाखा को प्रस्तुत किया जाए और उत्तरजीवी (यों) द्वारा खाते को जारी रख संचालित भी किया जा सकता है।

नामांकन के बिना

  • रु. 50,000/- तक
    • जहाँ खाते में नामांकन नहीं किया गया है तथा उत्तरजीवी खंड रहित संयुक्त खाता है तथा दावा राशि रु. 50,000/- अथवा उससे कम है, एवं
    • अनुलग्नक 8 (पृष्ठ 33) के अनुसार अपेक्षित स्टाम्प पेपर पर क्षतिपूर्ति बांड भरा जाए एवं शाखा को प्रस्तुत किया जाए।
    दावा राशि रु. 50,000/- तक, भले ही खाते में न तो नामांकन किया गया हो और न ही उत्तरजीवी खंड हो, किसी भी जमानत की आवश्यकता नहीं है।
     
  • रु. 50,000/- से अधिक
    • रु. 50,000/- से अधिक दावा राशि के लिए निर्धारित आवेदन पत्र (जी-64संशोधित) भरकर शाखा को प्रस्तुत किया जाए जिसमें मृतक व्यक्ति की संपत्तियों एवं देनदारियों का विवरण हो एवं अनुलग्नक-9 (पृष्ठ 34-38) के अनुसार परिवार घोषणापत्र एवं
    • केवल रु. 50,000/- से अधिक राशि के खातों में अनुलग्नक 10 (पृष्ठ 39–40) के अनुसार अपेक्षित स्टाम्प पेपर पर शपथपत्र जिसमें मृतक के सभी दावाकर्ता(ओं) एवं अथवा विधिक उत्तराधिकारी(यों) द्वारा यह पुष्टी की जाए कि उसे और या उन्हें छोडकर मृतक के किसी भी अन्य दावेदार अथवा विधिक उत्तराधिकारियों द्वारा अन्य कोई भी द्वारा प्रस्तुत नहीं किया जा रहा है, एवं
    • अनुलग्नक – 11 (पृष्ठ 41) के अनुसार दावाकर्ता(ओं) एवं बैंक को स्वीकार्य दो जमानतदारों द्वारा क्षतिपूर्ति बांड भरकर बैंक को प्रस्तुत किया जाए।

    अधिक स्पष्टीकरण के लिए, यूको बैंक की निकटतम शाखा के प्रबंधक/ वरिष्ठ प्रबंधक/ मुख्य प्रबंधक से संपर्क करने में कृपया संकोच न करें।

top

यूको में नया-नया :
यूको बैंक ने ऐसे व्यक्तियों को ऋण सुविधा प्रदान करने के लिए यूको कौशल ऋण योजना शुरू की है, जो कौशल विकास पाठ्यक्रमों को शुरू करना चाहते हैं। | अखंडता वचन - सीवीसी पहल | प्रतिभूति बाजार में कारोबार करते समय केवाईसी एक बार की जानी वाली प्रक्रिया है - सेबी द्वारा पंजीकृत मध्यस्थ (दलाल, डीपी, म्युचुअल फंड आदि) द्वारा एक बार केवाईसी की प्रक्रिया पूरी होने के पश्चात, जब आप अन्य मध्यस्थ से संपर्क करते है तो आपको पुनः इस प्रक्रिया से नहीं गुजरना होगा। | बंद करें - अपने डीमैट खाते से अनधिकृत लेदेन पर रोक लगाने के लिए - अपने निक्षेपागार (डिपोजिटरी)सहभागी के साथ अपनी मोबाइल नम्बर को अद्यतन करें । डीमैट खाते से होनेवाले सभी नामे एवं अन्य महत्वपूर्ण लेन देन की अलर्ट अपने पंजीकृत मोबाइल पर उसी दिन सीधे एनएसडीएल से प्राप्त करें । (निवेशकर्ता के हित में जारी ) | बंद करें - आईपीओ को सब्स्क्राईब करते समय निवेशकर्ता को चेक जारी करने की आवश्यकता नहीं है । आवंटन की स्थिति में भुगतान करने के लिए अपने बैंक को अधिकृत करने हेतु केवल आवेदन फार्म में खाता संख्या लिख कर हस्ताक्षर करें । चूंकी रकम निवेशक के खाते में ही रहती है अतः रकम वापसी के चिंता की कोई बात नहीं है। |
© 2016 सर्वाधिकार सुरक्षित